ओडिशा का इतिहास, संस्कृति, और घूमने वाले प्रमुख पर्यटन स्थल – Odisha travel guide in hindi

Odisha travel guide in hindi

आप यदि घूमने के साथ साथ धार्मिक स्थानों पर दर्शन के लिए भी जाना चाहते हैं तो आपको ओडिशा का ट्रिप प्लान करना चाहिए। ओडिशा में कई धार्मिक स्थल मौजूद हैं, जो पूरे विश्व में प्रसिद्ध हैं। ओडिशा के पुरी का जगन्नाथ मंदिर एक पवित्र स्थल है। लोग यहाँ दूर दूर से दर्शन करने के लिए आते हैं। Odisha Trip प्लान करने से पहले आपको ओडिशा के बारे में जरूर जानना चाहिए। ओडिशा के बारे में ठीक से जानने के लिए इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें।

इसे भी पढ़ें: झारखंड का इतिहास, संस्कृति, और घूमने वाले प्रमुख पर्यटन स्थल – Jharkhand travel guide in Hindi

देखना चाहते हैं वास्तुकला का अद्भुत नजारा, तो बनाएं ओडिशा ट्रिप का प्लान

ओडिशा भारत के पूर्वी भाग में बसा हुआ है। ओडिशा की राजधानी सुन्दर शहर भुवनेश्वर है। ओड़िया भाषा यहाँ की मुख्य भाषा है। हिंदी भाषा को भी यहाँ पसंद किया जाता है। यहाँ आपको लोगों से बात करने में परेशानी नहीं होगी। घूमने के लिए यह राज्य बहुत ही सुन्दर है। साथ ही यह धार्मिक स्थल के लिए भी प्रसिद्ध है। ओडिशा का कोणार्क सूर्य मंदिर अपनी वास्तुकला से सभी को सप्राइज कर देता है। जो लोग इस मंदिर को देखते हैं वो उसकी बनावट को देखकर हैरान रह जाते हैं। इसके अलावा जगन्नाथ मंदिर की रथ यात्रा में शामिल होने के लिए हर साल लाखों लोग यहां आते हैं। ओडिशा के बारे में और जानने के लिए पहले इसके इतिहास से शुरुआत करते हैं।  

ओडिशा का इतिहास (History of Odisha in Hindi) –

History of Odisha in Hindi
History of Odisha in Hindi

ओडिशा का इतिहास 5,000 साल से भी पुराना है। बता दें कि पहले ओडिशा को “कलिंग” के नाम से जाना जाता था। कलिंग शासन के लिए ओडिशा प्रसिद्ध हुआ करता था। सम्राट अशोक ओडिशा के महान शासकों में से एक हैं। चौथी शताब्दी में ओडिशा पर गुप्त राजवंश ने राज किया। उसके बाद 10वीं सदी में भौम कारा साम्राज्य ने, फिर सोम राज वंश ने ओडिशा राज्य पर शासन किया। 13वीं और 14वीं से 1568 ई. तक यहाँ पर मुस्लिम शासकों ने शासन किया।

नवाब और मराठों ने भी ओडिशा पर अपना शासन चलाया है। इसके बाद 1803 ई. में अंग्रेजों ने यहां पर अपना कब्ज़ा कर लिया। फिर 1 अप्रैल 1936 ई. को ओडिशा राज्य की स्थापना हुयी। उसके बाद से ही हर साल 1 अप्रैल को ओडिशा दिवस के रूप में मनाया जाता है।

इसे भी पढ़े : सिक्किम की राजधानी, इतिहास और घूमने वाले प्रमुख पर्यटन स्थल – Complete Travel Guide in Hindi

ओडिशा से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण पॉइंट्स –

राज्य का नामओडिशा
राजधानी का नामभुवनेश्वर
कब स्थापना हुई1 अप्रैल 1936
क्षेत्रफललगभग 155,707 वर्ग किलोमीटर
कुल जिले30
कुल जनसंख्यातकरीबन 4,19,74,218
जनसंख्या का घनत्व270
साक्षरता73.45%
बोली जाने वाली भाषाएंओड़िया
किस लिए फेमस हैपुरी का जगन्नाथ मंदिर पूरे विश्व में प्रसिद्ध है।

ओडिशा की संस्कृति (Culture of Odisha in Hindi) –

ओडिशा अपनी संस्कृति के लिए एक संपन्न राज्य है। यहाँ का संगीत, त्यौहार, वास्तुकला और नृत्य अपने आप में आकर्षक और प्रसिद्ध है। ओडिसा के शास्त्रीय नृत्य को अंतरराष्ट्रीय मान्यता भी मिली हुयी है। इसके अलावा हस्तकला में चाँदी से जरदोजी और कठिन पीपली का काम देश भर में प्रसिद्ध है। वास्तुकला में कोणार्क का प्रसिद्ध सूर्य मंदिर किसी चमत्कार से कम नहीं है। ओडिशा के शास्त्रीय नृत्य 700 सालों से भी अधिक समय से चले आ रहे हैं।  

ओडिशा के त्यौहार (Festivals of Odisha in Hindi) –

त्यौहार किसी भी राज्य की संस्कृति का एक बहुत बड़ा हिस्सा होता है। हर राज्य में त्यौहारों को मनाने का अंदाज भी अलग अलग होता है। जिस कारण वहां के रीती रिवाजों के बारे में पता चलता है। ओडिशा में भी कई त्यौहार बहुत ही उत्साह के साथ मनाये जाते हैं, जो वहां की संस्कृति को दिखाते हैं। ओडिशा में मनाए जाने वाले त्यौहार कुछ इस प्रकार हैं – 

रथ यात्रा (Rath Yatra) –

पुरी की जगन्नाथ रथ यात्रा के बारे में तो सभी जानते हैं। यह रथ यात्रा दुनिया भर में प्रसिद्ध है। जिस कारण हर वर्ष लाखों लोगो की भीड़ इस धार्मिक उत्सव पर आती है। यह त्यौहार ओडिशा का प्रमुख त्यौहार है। भगवान जगन्नाथ, भगवान बलभद्र और देवी सुभद्रा के लिए यह यात्रा निकाली जाती है। 

कलिंग महोत्सव (Kalinga Mahotsav)

इस त्यौहार को मनाने के पीछे की कहानी ऐसी है कि पहले ओडिशा का एक बड़ा हिस्सा कलिंग नाम से हुआ करता था। यहाँ पर सम्राट अशोक के शासन में शहीदों की मृत्यु हुयी थी। जिसे देखकर अशोक ने शांतिपूर्ण तरीके से जीवन जीने का निर्णय लिया। इसी युद्ध पर शांति पाने की जीत पर यह त्यौहार मनाया जाता है। धौली शांति स्तूप में इस त्यौहार को मनाते हैं, जिसमें मार्शल आर्ट किया जाता है। यह मार्शल आर्ट दुनिया में Famous है।  

दुर्गा पूजा (Durga Pooja) –

पश्चिम बंगाल की तरह ओडिशा में भी दुर्गा पूजा को धूमधाम के साथ मनाया जाता है। यहाँ के लोगों में दुर्गा पूजा के लिए बहुत अधिक उत्साह रहता है। यह त्यौहार सितंबर या अक्टूबर के महीने में मनाया जाता है। इस त्यौहार में ओडिशा की सड़को पर रौशनी की जाती है। पंडालों में माँ दुर्गा की प्रतिमा बैठाई जाती है। यह त्यौहार तीन से चार दिनों तक चलता है। 

चंदन यात्रा (Chandan Yatra) –

यह ओडिशा में मनाया जाने वाला सबसे लम्बा त्यौहार होता है, जो कि 42 दिनों तक चलता है। यह त्यौहार जगन्नाथ मंदिर में होता है। इस त्यौहार में जल में चन्दन मिलाकर देवताओं की पूजा अर्चना की जाती है। ‘चपा’ नाम की पारंपरिक नावों पर देवताओं को ले जाया जाता है। इन नावों को पानी में तैरते हुए हंस जैसे लाल और सफ़ेद रंग से सजाया जाता है।

माघ सप्तमी (Magha Saptami) –

यह त्यौहार भी ओडिशा के प्रमुख त्यौहारों में से एक है। इसे फरवरी महीने में मनाया जाता है। इस त्यौहार में काफी लोग बंगाल की खाड़ी के तट पर  समुद्र की पूजा करने के लिए इकट्ठा होते हैं। भक्त लोग समुद्र में डुबकी भी लगाते हैं।  

इन प्रमुख त्यौहारों के अलावा भी ओडिशा में कई त्यौहार मनाये जाते हैं, जो ओडिशा में फेमस हैं, जैसे – 

  • चतर जात्रा
  • नुआखाई
  • छऊ महोत्सव
  • पुरी बीच महोत्सव
  • मकर मेला
  • राजा परबा
  • महाबिसुवा संक्रांति
  • कोणार्क नृत्य महोत्सव
  • श्री क्षेत्र उत्सव

ओडिशा का रहन सहन (Lifestyle of Odisha in Hindi) –

ओडिशा में ज्यादातर लोग हिन्दू धर्म का पालन करते हैं। इसके अलावा 62 से ज्यादा आदिवासी समुदाय ओडिशा में रहता है। लोग यहाँ पर सभी के साथ मिल जुलकर रहते हैं। यहाँ के लोग स्वभाव से बहादुर और धार्मिक होते हैं। यहाँ के लोगो की जीवन शैली (Lifestyle) बहुत ही शांत, आनंद और खुशी से भरी होती है। ओडिशा में लोग अपने परिवार के साथ ही कहीं जाना पसंद करते हैं, क्योंकि वे उन्हें सबसे ज्यादा प्यार करते हैं। उनके जीवन में दोस्तों की भी अपनी एक खास जगह होती है।   

ओडिशा की पारंपरिक वेशभूषा (Traditional Costumes of Odisha in Hindi) –

ओडिशा में महिलाएं साड़ी पहनती हैं। यहां की साड़ियां बहुत ही सुन्दर होती है। ओडिशा की बोमकाई साड़ी, कटकी साड़ी और संबलपुरी साड़ी दुनिया भर में Famous है। महिलाएं विशेष अवसरों (Special Occasions) पर इन साड़ियों को पहनती हैं।

इन सुन्दर साड़ियों पर महिलाएं आकर्षक आभूषण भी पहनती हैं, जो ओडिशा की परंपरा को और भी ज्यादा बढ़ा देता है। इसके अलावा यहां की लड़कियां सलवार कमीज पहनती हैं। ओडिशा के पुरुषों की पारम्परिक वेशभूषा धोती कुर्ता है। धोती कुर्ता के साथ वो अपने कंधे पर गमछा भी रखते हैं। वो अपने पारम्परिक परिधान का नियम से पालन भी करते हैं। 

ओडिशा का नृत्य (Dance of Odisha in Hindi) –

ओडिशा के नृत्य अपनी संस्कृति को जीवित रखे हुए हैं। यहाँ के नृत्यों में कुछ नृत्य प्राचीन काल से चले आ रहे हैं। ओडिशा के मुख्य नृत्य इस प्रकार हैं –  

ओडिशी नृत्य (Odissi Dance) –

यह नृत्य ओडिशा का सबसे प्राचीन और प्रमुख शास्त्रीय नृत्य है। इसका जन्म मंदिरों से हुआ है। जहाँ पर देवदासियां नृत्य किया करती थीं। यह नृत्य भगवान् कृष्ण को समर्पित रहता है। 

घुमुरा नृत्य (Ghumura Dance) –

यह नृत्य भी ओडिशा का लोकप्रिय नृत्य है। इस नृत्य की उत्पत्ति कालाहांडी से हुयी है। कहा जाता है कि पहले कालाहांडी में घुमुरा नृत्य को युद्ध के समय दरबारी नृत्य के रूप में करते थे। अब यह नृत्य ओडिशा के सभी हिस्सों में ख़ुशी के लिए किया जाता है। कालाहांडी में यह खास तौर से नुक्खाई और दशहरा पर किया जाता है।

छाऊ नृत्य (Chhau Dance) –

इस नृत्य की उत्पत्ति मयूरभंज जिले में हुयी थी। इस नृत्य में प्रदर्शन के लिए मुखोटों का उपयोग किया जाता है। 

गोटीपुआ नृत्य (Gotipua Dance) –

इस नृत्य में लड़के लड़कियों के जैसे नृत्य करते हैं। इस नृत्य में भाग लेने वाले नृतक अखाड़ा से होते हैं। 

बाघा नृत्य (Bagha Dance) –

यह नृत्य चैत्र माह में सुबरनपुर जिले के बिंका और सोनेपुर में होता है। 

इस नृत्य को पुरुष करते हैं। वो अपने शरीर को इस प्रकार से सजाते हैं कि वो बाघ की तरह दिखते हैं। 

इन मुख्य लोक नृत्यों के अलावा भी ओडिशा के कई लोक नृत्य हैं, जैसे – 

  • कीसाबादी
  • ढप नृत्य
  • कर्म नाच
  • डस्कथिया
  • पाला
  • ढप नृत्य
  • रानापा नृत्य
  • जोड़ी सांखा डांस
  • चैती घोड़ा नृत्य
  • संबलपुरी लोक नृत्य
  • बाघा नाचा
  • पाइका नृत्य

ओडिशा का खानपान (Odisha Food in Hindi) –

जिस तरह आपको ओडिशा के त्यौहार, संस्कृति और रहन सहन पसंद आएंगे। ठीक उसी तरह आपको ओडिशा का खाना भी बहुत पसंद आएगा। यहाँ के खाने का Taste आप कभी भी नहीं भूल पाएंगे। आपको बता दें कि ओडिशा का मुख्य भोजन चावल है। इसके अलावा भी यहाँ पर अन्य डिश बनायी जाती हैं। ओडिशा के फेमस फ़ूड इस प्रकार हैं –  

छेना पोड़ा (Chhena Poda) – यह ओडिशा के फेमस फूड्स में से एक है। यह एक तरह की मिठाई होती है, जो छेने से बनायी जाती है। 

संतुला (Santula) – यदि आप ओडिशा में हैं और एक अच्छी डिश खाना चाहते हैं तो आप संतुला ऑर्डर कर सकते हैं। यह बहुत सारी सब्जियों से बनी एक डिश है, जो खाने में लजीज और हेल्थी होती है। 

बड़ी चूरी (Big Chunk) – ओडिशा के Famous Foods में इस डिश का नाम भी शामिल है। यह डिश मसूर की दाल से बनायी जाती है।  

बेसरा (Besara) – यह डिश भी सब्जियों से बनी होती है, जिसमे ज्यादा से ज्यादा सब्जियों का इस्तेमाल किया जाता है। मसालों के साथ इसे स्वादिष्ट तरीके से तैयार किया जाता है।  

खाजा (Khaja) – यह ओडिशा की मीठी डिश है। यह दिखने में जितनी अच्छी होती है खाने में उतनी ही मजेदार होती है। 

इसके अलावा आप ओडिशा में इन खानों का भी मजा ले सकते हैं, जैसे –

  • चौला वड़ा
  • पखाला
  • एंडुरी पीठा
  • चुंगडी मलाई
  • दालमा
  • रसबली
  • कणिका
  • पुलाव
  • चाटु राय

यदि आप ओडिशा जाएं तो यहाँ के इन फेमस फूड्स का स्वाद जरूर चखें। 

ओडिशा घूमने जाने का सबसे बेहतरीन समय (Best Time to Visit Odisha in Hindi) –

आप यदि ओडिशा का ट्रिप प्लान कर रहे हैं तो आपको बता दें कि इसके लिए आपको अक्टूबर से फरवरी के बीच जाना चाहिए। इस मौसम में ओडिशा घूमना सबसे अच्छा रहता है। इस मौसम में आप ओडिशा की अधिकांश जगहों का अच्छे से आनंद ले सकेंगे। 

ओडिशा में घूमने लायक जगह (Places to Visit in Odisha) –

ओडिशा जैसे सुन्दर राज्य में घूमने के लिए बहुत सारी जगहे हैं। यहाँ के धार्मिक स्थल दुनियाभर में प्रसिद्ध हैं। हर कोई ओडिशा जैसे राज्य को नजदीक से देखना चाहता है। आप भी ओडिशा जाने का प्लान कर रहे हैं तो आप अपने Tour पर इन जगहों पर घूम सकते हैं, जैसे –

प्रसिद्ध कोणार्क सूर्य मंदिर (Famous Konark Sun Temple) – 

यह सूर्यनारायण जी का मंदिर है। यह विश्व प्रसिद्ध है। इस मंदिर को यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थलों में शामिल किया गया है। इस मंदिर की वास्तुकला बहुत ही आकर्षक है, जो पर्यटकों (Tourists) का मन मोह लेती है। 

पुरी का जगन्नाथ मंदिर (Jagannath Temple of Puri) – 

यह बहुत ही धार्मिक और पवित्र मंदिर है। चारों धाम में यह मंदिर भी शामिल है। 

नंदन कान्हा चिड़ियाघर (Nandan Kanha Zoo) – 

ओडिशा का यह चिड़ियाघर दुनिया भर में प्रसिद्ध है। यहाँ के पशु पक्षी और खूबसूरत वातावरण देखने लायक होता है। इसलिए दूर दूर से टूरिस्ट इस चिड़िया घर को देखने के लिए आते हैं। 

धौली गिरि (Dhauli Giri) – 

यह एक बौद्ध तीर्थ स्थल है, जो पहाड़ियों पर बना हुआ है। इन पहाड़ियों को कलिंग युद्ध के लिए जाना जाता है। इन खूबसूरत पहाड़ियों को देखने के लिए भी दूर दूर से टूरिस्ट आते हैं। 

उदयगिरि और खंडगिरि गुफाएं (Udayagiri and Khandagiri Caves) – 

घूमने के लिए यह गुफाएं भी बहुत फेमस हैं। ऐसा कहा जाता है कि इन गुफाओं को जैन समुदाय द्वारा बनाया गया है। 

ऊपर बताए गए Tourist Places के अलावा भी आप ओडिशा में इन जगहों पर घूम सकते हैं, जैसे – 

  • म्यूजियम भुवनेश्वर
  • भितरकनिका राष्ट्रीय उद्यान
  • चिल्का झील
  • सिमलीपाल राष्ट्रीय उद्यान
  • हीराकुंड बांध
  • भुवनेश्वर 
  • कटक 
  • चांदीपुर 

इन स्थानों पर भी आपको देखने के लिए बहुत सी फेमस चीजे मिल जाएंगी। 

इसे भी पढ़े : असम की राजधानी, इतिहास और घूमने वाले प्रमुख पर्यटन स्थल – Complete Travel Guide in Hindi

ओडिशा कैसे जाएं (How to Reach Odisha) –

आपने ओडिशा जाने का Trip तो Plan कर लिया है, लेकिन वहां पहुंचना कैसे है? यदि यह ख्याल आपके मन में आ रहा है तो आपको बता दें कि आप ओडिशा आराम से पहुंच सकते हैं। आप ओडिशा जाने के लिए कई मार्ग का चुनाव कर सकते हैं। चलिए आपको बताते हैं कि आप ओडिशा कैसे कैसे पहुंच सकते हैं –

सड़क मार्ग से (By Road) – यदि आप सड़क मार्ग से ओडिशा पहुंचना चाहते हैं तो यह आपके लिए आसान होगा। ओडिसा की प्रमुख सड़के अच्छी तरह से अन्य मार्गों से जुड़ी हुई हैं। इसलिए आप बस से ओडिशा पंहुच सकते हैं। यदि आप अपने निजी वाहन से वहां जाना चाहते हैं तो भी जा सकते हैं।

ट्रेन मार्ग से (By Train) – यदि आप ट्रेन से Travel करना चाहते हैं तो आपको भुवनेश्वर रेलवे स्टेशन पर उतरना होगा। यह रेलवे स्टेशन अन्य रेलवे स्टेशनों से अच्छे से जुड़ा हुआ है। इसके बाद आप ओडिशा की जिस भी जगह पर जाना चाहते हैं वहां के लिए टैक्सी या फिर बस ले सकते हैं।  

हवाई मार्ग से (By Airplane) – यदि आप हवाई जहाज से ट्रैवेल करना चाहते हैं तो आप बहुत ही जल्दी ओडिशा पहुंच सकते हैं। इसके लिए आपको बीजू पटनायक अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा, भुवनेश्वर पर उतरना होगा। वहां से आप टैक्सी ले सकते हैं और अपनी घूमने की जगह तक पहुंच सकते हैं।  

FAQs –

Q. ओडिशा में कौन–कौन से त्यौहार मनाए जाते हैं?

A. ओडिशा में “रथ यात्रा” को बहुत ही धूमधाम के साथ मनाया जाता है। इसके अलावा कलिंग महोत्सव, दुर्गा पूजा, चंदन यात्रा, माघ सप्तमी जैसे त्यौहारों को भी यहां पर मनाते हैं। 

Q. ओडिशा का लोक नृत्य कौन सा है?

A. ओडिशा का मुख्य लोक नृत्य “ओडिशी नृत्य” है। इसके अलावा घुमुरा नृत्य, छाऊ नृत्य, गोटीपुआ नृत्य, और बाघा नृत्य भी यहां के लोक नृत्य हैं। 

Q. ओडिशा में कौन सा खेल सबसे प्रमुख है?

A. ओडिशा का सबसे प्रमुख खेल हॉकी है। 

Q. ओडिशा भारत में कहां पर स्थित है?

A. ओड़िशा भारत के पूर्वी भाग में स्थित एक राज्य है, जिसकी राजधानी भुवनेश्वर है।

Q. ओडिशा क्यों प्रसिद्ध है?

A. ओडिशा अपने धार्मिक स्थल जगन्नाथ मंदिर और कोणार्क मंदिर के लिए प्रसिद्ध है। 

निष्कर्ष (Conclusion) –

इस आर्टिकल में हमने आपको ओडिशा से जुड़ी सारी जानकारी दी है। जैसे, ओडिशा का इतिहास, संस्कृति, खानपान, रहन सहन, भाषाएं, त्यौहार, पारम्परिक पहनावा आदि। आप यदि ओडिशा का ट्रिप प्लान कर रहे हैं तो आपको किस मौसम में जाना चाहिए और आप कहाँ कहाँ घूम सकते हैं इसकी जानकारी भी हमने आपको इस आर्टिकल में दी है।

आप ओडिशा कैसे जाएं? यदि आपके मन में यह सवाल भी है तो इसका जवाब भी आपको इस पोस्ट में दिया गया है। आशा है कि आपको ओडिशा से जुड़ी ये सारी जानकारी Helpful लगी होगी। यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया हो तो आप इसे सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर भी शेयर करें,

Thanks!

2 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

श्रीलंका में घूमने वाले प्रमुख पर्यटन स्थल। भूटान में घूमने वाले प्रमुख पर्यटन स्थल | भूटान से 10 जुड़े रोचक तथ्य (Interesting facts About Bhutan) 10 ट्रेवल कंटेंट क्रिएटर जो महीनों का लाखों कमाते है। कैंची धाम – नीम करोली बाबा से अनसुलझे जुड़े रहस्य।
श्रीलंका में घूमने वाले प्रमुख पर्यटन स्थल। भूटान में घूमने वाले प्रमुख पर्यटन स्थल | भूटान से 10 जुड़े रोचक तथ्य (Interesting facts About Bhutan) 10 ट्रेवल कंटेंट क्रिएटर जो महीनों का लाखों कमाते है। कैंची धाम – नीम करोली बाबा से अनसुलझे जुड़े रहस्य।