अल्मोड़ा की 8 अनोखी जगहें, जिन्हें आपने पहले कभी नहीं देखा होगा | Almora Trip

Almora Trip

अल्मोड़ा, उत्तराखंड राज्य का एक बहुत ही सुंदर और शांत वातावरण वाला शहर है, जिसकी खूबसूरती देखते ही बनती है। यह शहर अपने प्राकृतिक नजारों, पहाड़ों  और चोटियों के लिए जाना जाता है। ट्रेकिंग करने के लिए भी Almora शहर बहुत अच्छा है। यहाँ घूमने के लिए दूर दूर से लोग आते हैं। देवदारों के पेड़ो से घिरा हुआ यह शहर अपने आप में स्वर्ग जैसा दिखाई देता है। भारत के इस खूबसूरत शहर में एक बार जाना तो बनता है। 

खूबसूरत नजारों के लिए आप एक बार यहाँ का ट्रिप जरूर प्लान करें। Almora Trip Plan करने से पहले इस जगह के बारे में अच्छे से जान लें। अल्मोड़ा को अच्छी तरह से जानने के लिए इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें –

अल्मोड़ा शहर का इतिहास (History of Almora in Hindi) –

History of Almora

ऐसा माना जाता है कि अल्मोड़ा को सन् 1563 ई. में चन्द राजवंश के राजा बालो कल्याणचंद ने आलमनगर के नाम से बसाया था। पहले चंदवंश की राजधानी चम्पावत थी। कल्याणचंद ने अल्मोड़ा के महत्त्व को समझा, तभी उन्होंने चम्पावत से बदलकर आलमनगर (अल्मोड़ा) को अपनी राजधानी बना दिया। 

अल्मोड़ा नगर उत्तराखण्ड राज्य के कुमाऊँ मंडल में आता है। यह शहर समुद्रतल से 1646 मीटर की ऊँचाई पर 11.9 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैला हुआ है। यह शहर दोनों तरफ से पर्वत-चोटी पर बसा हुआ है। इस शहर से कोशी तथा सुयाल नदियां होकर बहती हैं।

इसे भी पढ़ें : History of Uttarakhand in Hindi -उत्तराखंड का इतिहास और संस्कृति: एक व्यापक गाइड

अल्मोड़ा से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण पॉइंट्स (Some Important Points About Almora) –

शहर का नामअल्मोड़ा
कब स्थापना हुईसन 1568 ई.
क्षेत्रफल16.6 वर्ग किमी
कुल जनसंख्यातकरीबन 35,513
जनसंख्या का घनत्व189 वर्ग किमी
साक्षरता78.80%
बोली जाने वाली भाषाएंकुमांऊँनी, गढ़वाली
किस लिए फेमस हैअल्मोड़ा अपने शांत वातावरण के लिए जाना जाता है। साथ ही एडवेंचर के लिए भी प्रसिद्ध है।
शहर से निकलने वाली नदीकोसी और सोयाल नदी

अल्मोड़ा की संस्कृति (Culture of Almora) –

अल्मोड़ा में आपको बहुत ही प्राचीन संस्कृति देखने को मिलेगी। यहाँ के लोगों ने अपनी पुरानी परम्पराओं को जीवित रखा है, जो बहुत ही आकर्षक है। यहाँ के लोक गीतों में भी ज्यादातर जंगलों, खेतों, नदियों, जीवों और बर्फ से ढंकी चोटियों का संकेत मिलता है।

अल्मोड़ा के त्यौहार (Festivals of Almora) –

अल्मोड़ा के लोग अपने त्यौहारों को धार्मिक तरीके से मनाते हैं, जो बहुत ही शानदार होते हैं। आइए जानते हैं अल्मोड़ा में मनाए जाने वाले प्रमुख त्यौहारों के बारे में –

1) नंदा देवी उत्सव (Nanda Devi Festival) :-

यह त्यौहार यहाँ का सबसे अच्छा त्यौहार माना जाता है। यह सितंबर के महीने में मनाया जाता है। अल्मोड़ा के लोग इस त्यौहार को चंद शासकों के समय से मनाते आ रहे हैं। “नंदा” चंद वंश की कुल देवी मानी जाती थी। इस कारण इसे मंदिर उत्सव के रूप में भी मनाया जाता है। यह त्यौहार पांच दिनों तक चलता है। 

2) जागेश्वर श्रावणी महोत्सव (Jageshwar Shravani Festival) :-

जागेश्वर श्रावणी महोत्सव 15 जुलाई से 15 अगस्त तक मनाया जाता है। जागेश्वर में 124 छोटे और बड़े मंदिरों का समूह है। यह त्यौहार कुमाऊनी समाज के लिए अधिक धार्मिक महत्व रखता है। इस महोत्सव को देखने के लिए लगभग दस हज़ार से भी ज्यादा पर्यटक (Tourists) आते हैं। 

3) दशहरा महोत्सव अल्मोड़ा (Dussehra Festival Almora) –

अल्मोड़ा शहर में दशहरा महोत्सव को बहुत ही अनोखे तरीके से मनाया जाता है। आस-पास के क्षेत्र से करीब दस से पंद्रह हजार टूरिस्ट इस महोत्सव में शामिल होने के लिए आते हैं। यह त्यौहार अक्टूबर के महीने में मनाया जाता है।

इन त्यौहारों के अलावा अल्मोड़ा में निम्नलिखित त्यौहार भी मनाए जाते हैं –

  • श्रीकृष्ण जन्माष्टमी महोत्सव
  • शरद ऋतु महोत्सव
  • सोमनाथ मेला
  • बिन्सार महादेव का महाशीवरात्री समारोह
  • मासी
  • साउनी
  • चिलिया नौला
  • हदखान
  • भिकियासैंण पुण्यगिरि नवरात्री मेला
  • दूनागिरी मेला
  • देविधुरा रक्षा बंधन मेला
  • मुस्तमानु मेला 

अल्मोड़ा का रहन सहन (Lifestyle of Almora in Hindi) –

अल्मोड़ा हस्त शिल्प का केंद्र माना जाता है। यहाँ पर आपको हाथों से बनी वस्तुएं ज्यादा मिलेंगी। यहाँ के लोग बहुत ही साधारण तरीके से अपना जीवन जीते हैं। उनका रहन सहन बहुत ही शांत है, जो इस शहर को और भी खूबसूरत बना देता है। यही वजह है कि यहाँ का शांत वातारवण पर्यटकों को अपनी तरफ आकर्षित करता है। 

अल्मोड़ा कैसे जाएं (How to Reach Almora)?

उत्तराखंड के सबसे प्रसिद्ध हिल स्टेशनों में से एक अल्मोड़ा भी है। इसलिए यहाँ पहुंचने के लिए आपको कई ऑप्शन मिल जायेंगे, जैसे – 

  1. हवाई जहाज (Airplane) – आप यदि हवाई जहाज से इस ट्रिप पर जाना चाहते हैं तो, आपके लिए सबसे नजदीक का एयरपोर्ट पंतनगर या फिर पिथौरागढ़ एयरपोर्ट रहेगा। पंतनगर और पिथौरागढ़ एयरपोर्ट से अल्मोड़ा जाने के लिए कई बसें और प्राइवेट टैक्सी चलती हैं। इनके द्वारा आप आसानी से अल्मोड़ा पहुंच सकते हैं। पंतनगर और पिथौरागढ़ एयरपोर्ट से अल्मोड़ा की दूरी लगभग 116 और 122 किमी है।
  2. ट्रेन (Train) आप यदि ट्रेन से सफर करना चाहते हैं तो अल्मोड़ा का सबसे निकटतम रेलवे स्टेशन काठगोदाम और हल्द्वानी है। यहां से अल्मोड़ा की दूरी लगभग 82 और 89 किमी की है। इन दोनों रेलवे स्टेशनों से 3-4 घंटे में अल्मोड़ा पहुंचा जा सकता है। इन स्टेशनों से अल्मोड़ा पहुंचने के लिए आपको कई साधन मिल जायेंगे।
  3. सड़क मार्ग (Roadways) – आप यदि बस से इस ट्रिप का प्लान कर रहे हैं तो आपको अल्मोड़ा जाने के लिए कई बसें मिल जाएँगी। दिल्ली से सीधे अल्मोड़ा के लिए भी बसें आसानी से मिल जाती हैं, जो कि 12 घंटों में आपको अल्मोड़ा पहुंचा देती हैं। 

अल्मोड़ा घूमने का सबसे अच्छा समय (Best Time to Visit Almora Hill Station) –

अल्मोड़ा घूमने जाने के लिए सबसे अच्छा समय मार्च और मई के बीच का माना जाता है। इस समय के दौरान अल्मोड़ा में बहुत ही खुशनुमा वातावरण रहता है, जो यह की सुंदरता में चार चाँद लगा देता है। गर्मियों का समय यहाँ घूमने के लिए अच्छा होता है। इसके अलावा आप किसी भी मौसम में अल्मोड़ा जा सकते हैं। 

इसे भी पढ़ें : बना रहे हैं ऋषिकेश घूमने का प्लान तो पहले जान लें यहां की खासियत | Rishikesh travel in Hindi

अल्मोड़ा में घूमने की जगह (Places to Visit in Almora) –

अल्मोड़ा में कई खूबसूरत मंदिर और जगहें हैं, जहाँ पर आसानी से घूमा जा सकता है, जैसे – 

1) कटारमल सूर्य मंदिर अल्मोड़ा (Katarmal Sun Temple) –

अल्मोड़ा के दर्शनीय स्थानों में कटारमल सूर्य मंदिर दूसरा सबसे महत्वपूर्ण सूर्य मंदिर माना जाता है। ऐसा कहा जाता है कि अल्मोड़ा स्थित कटारमल सूर्य मंदिर 800 से भी अधिक साल पुराना है। यहाँ के मुख्य मंदिर में 45 छोटे मंदिर भी स्थापित हैं। सूर्य मंदिर में भगवान शिव और माता पार्वती के अलावा लक्ष्मी-नारायण की मूर्तियाँ भी स्थापित हैं।

2) जागेश्वर मंदिर (Jageshwar Temple) –

जागेश्वर मंदिर जटागंगा घाटी पर है, जिसका निर्माण 9वीं शताब्दी में हुआ था। जागेश्वर में स्थित मंदिर भगवान शिव को समर्पित है, जबकि पास के अन्य मंदिर भगवान विष्णु, शक्ति देवी और हिंदू धर्म के देवी-देवताओं को समर्पित हैं।

3) बिनसर (Binsar) –

बिनसर एक बहुत ही शानदार पर्यटन स्थल (Tourist Place) है, जो कि अल्मोड़ा से 33 किलो मीटर दूर है। यह जगह हरे भरे जंगल, देवदारों के पेड़, घास के मैदान और मंदिरों के लिए जानी जाती है। समुद्र तल से लगभग 900 से 2500 मीटर की ऊंचाई पर स्थित यह जगह देखने में किसी स्वर्ग से कम नहीं है। 

4) डियर पार्क (Deer Park) –

अल्मोड़ा में घूमने वाली जगह डियर पार्क लगभग 3 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। डियर पार्क वन्यजीव प्रेमियों के लिए एक शानदार डेस्टिनेशन है। डियर पार्क का सबसे प्रमुख आकर्षण का केंद्र देवदार के हरे-भरे वृक्ष हैं। वहीं जब हिरण, काले भालू और तेंदुआ घूमते दिखाई देते हैं तो यह जगह और भी खूबसूरत लगती है।

5) जलना (Jalna) –

अल्मोड़ा की दिलचस्प जगहों में जलना टूरिस्ट प्लेस भी शामिल है। यह एक छोटा सा शांतिप्रिय गांव है। इस गांव के आसपास ट्रेकिंग भी किया जा सकता है। हिमालय के जंगलो में स्थित जलना करीब 1700 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है।

6) रानीखेत (Ranikhet) –

अल्मोड़ा की घूमने वाली जगहों में रानीखेत भी शामिल है। यह शहर मंदिरों और लुभावने दृश्यों से भरा हुआ है। यह द्वाराहाट कुमाऊ के पहाड़ों पर स्थित एक शानदार टूरिस्ट डेस्टिनेशन है। यह जगह प्राचीन विरासत के साथ साथ धार्मिक महत्व भी रखती है।

7) गोविंद बल्लभ पंत संग्रहालय (Govind Ballabh Pant Museum) –

अल्मोड़ा का गोविंद बल्लभ पंत संग्रहालय भी बहुत प्रसिद्ध है। यह संग्रहालय कत्युरी और चांद राजवंशों की विरासतों से भरा पड़ा है। गोविंद बल्लभ पंत संग्रहालय को भी दूर दूर से लोग देखने आते हैं।

8) दूनागिरी (Dunagiri) –

दूनागिरी कुमाऊं हिमालय में बसा हुआ सुन्दर टूरिस्ट प्लेस है। दूनागिरी एक छोटा सा शहर है, जो बहुत लोकप्रिय है। यहाँ का शांत वातावरण पर्यटकों को लुभाता है।

अल्मोड़ा का खानपान (Famous Food in Almora) –

आप यदि खाने के शौकीन हैं तो आपको अल्मोड़ा में बहुत ही आकर्षक डिश खाने के लिए मिल जाएंगी, जैसे – 

  • सिंगोड़ी मिठाई (Singodi Sweet) – यह यहाँ की फेमस मिठाई है, जिसे खोया से बनाया जाता है। इसे मालू के पत्ते में लपेटा जाता है। इसे बहुत ही खास तरीके से बनाया जाता है, जो खाने में बहुत स्वादिष्ट लगता है।  
  • बाल मिठाई (Bal Mithai) – यह भी एक प्रकार की मिठाई होती है, जो चॉकलेट के रंग की होती है। इसे भी खोया से बनाया जाता है। यह भी यहाँ की प्रसिद्ध मिठाईयों में से एक है। 
  • भांग की चटनी (Bhang Chutney) – यह एक प्रकार की चटनी होती है, जिसे इमली और भांग से बनाया जाता है। सिलबट्टे में पीस कर बनायी गयी इस चटनी का स्वाद बहुत ही अच्छा होता है। 
  • रबड़ी (Rabdi) रबड़ी भी यहाँ पर बहुत प्रसिद्ध है। सबसे फेमस रबड़ी यहाँ पर आपको खजांची मोहल्ले में अभिनंदन स्वीट हाउस पर मिल जाएगी। यह दुकान करीब 80 सालों से भी पुरानी है। 

इसके अलावा अल्मोड़ा में आप डुबुक, झेंगोर की खीर, अफ़गानी मोमो आदि का भी स्वाद ले सकते हैं। 

इसे भी पढ़ें : कहीं दीवाना ना बना लें आपको हर्षिल वैली की ये 7 आकर्षक जगह | Harshil Valley Travel Guide

अल्मोड़ा में कहां रुकें (Places to Stay in Almora)?

अल्मोड़ा में रुकने के लिए आपको आपके बजट के अनुसार कई होटल्स और लॉज आसानी से मिल सकते हैं। जैसे द पहाडी ओर्गानिक, इंपीरियल हाइट्स बिनसर, हिमालयन वुड्स, होटल हिमसागर आदि। इन होटल्स में रुका जा सकता है। इसके अलावा आपको अल्मोड़ा में कई जगहों पर रुकने के लिए साइन बोर्ड भी मिल जायेंगे। आप अपनी सुविधानुसार उन्हें भी देख सकते हैं।  

अल्मोड़ा घूमने के लिए बजट (Budget to Visit Almora) –

यदि आप दिल्ली से अल्मोड़ा का ट्रिप प्लान कर रहे हैं तो आप बस और ट्रेन से सफर कर सकते हैं, जिसके लिए आपको इतने पैसे खर्च करने होंगे –

दिल्ली-अल्मोड़ा (बस) – ₹1200 (दोनों तरफ)

दिल्ली-अल्मोड़ा (ट्रेन) – ₹950-1000 (दोनों तरफ)

अल्मोड़ा घूमने में – ₹600 (स्कूटी द्वारा) 

पेट्रोल – ₹800

खाने-पीने का खर्च  – ₹1000 (2 दिन)

होटल (1 दिन) – ₹700 (प्रति व्यक्ति)

कुल खर्च –  ₹3,700- 4000 

क्या क्या खरीदें (What to Buy in Almora)?

आप यहाँ पर कई तरह की चीजों की खरीदारी भी कर सकते हैं। यहाँ आपको बहुत सारे बाजार मिल जायेंगे। यहाँ का सबसे प्रसिद्ध बाजार लाला बाजार है, जो कि 200 साल पुराना है। यहाँ पर आपको शॉल, ज्वेलरी, ऊनी कपड़े, अंगोरा कपड़ा, एथनिक जैसी आकर्षक चीजें मिल जाएंगी। इसके अलावा अल्मोड़ा में आपको पीतल, धातु, तांबे आदि से बनी सजाने वाली वस्तुएं भी अच्छे दामों में मिल जाती हैं। 

FAQs –

Q.अल्मोड़ा में कौन–कौन से त्यौहार मनाए जाते हैं?

A.अल्मोड़ा में नंदा देवी उत्सव को बहुत ही धूमधाम के साथ मनाया जाता है। इसके अलावा जागेश्वर श्रावणी महोत्सव, दशहरा महोत्सव अल्मोड़ा जैसे त्यौहारों को भी मनाया जाता है। 

Q.अल्मोड़ा भारत में कहां पर स्थित है?

A. अल्मोड़ा जिला, उत्तराखंड राज्य में कुमाऊं प्रभाग में स्थित है। 

Q. अल्मोड़ा क्यों प्रसिद्ध है?

A.अल्मोड़ा अपने शांत वातावरण के साथ साथ एडवेंचर के लिए भी जाना जाता है। 

Q.अल्मोड़ा का प्रसिद्ध मंदिर कौन सा है?

A.अल्मोड़ा का कटारमल मंदिर दूसरा सबसे महत्वपूर्ण सूर्य मंदिर है, जो काफी प्रसिद्ध है।

निष्कर्ष (Conclusion) –

इस आर्टिकल में हमने आपको अल्मोड़ा के बारे में सारी जानकारी दी है। इसमें हमने आपको अल्मोड़ा के इतिहास, उसकी संस्कृति, वहां के विशेष त्यौहार, खान-पान और रहन-सहन के बारे में बताया है। साथ ही आप अल्मोड़ा में कहाँ कहाँ घूमने के लिए जा सकते हैं और क्या क्या चीजे खरीद सकते हैं इस बारे में भी बताया है। 

इसके अलावा किस मौसम में आपको अल्मोड़ा जाना चाहिए, वहां पहुंचने के लिए साधन क्या है, अल्मोड़ा जाने में कितना खर्च आएगा, अल्मोड़ा में कहां रुकें यह भी बताया है। ताकि आप आराम से अपना Almora Tour Plan कर सकें।

आशा है आपको यह आर्टिकल Helpful लगा होगा। यदि आपको हमारा आर्टिकल पसंद आया हो तो आप इसे सोशल मिडिया पर भी शेयर करें, Thanks!

If you’re looking for more info about Uttarakhand Tourism, just click here!

2 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कैंची धाम – नीम करोली बाबा से अनसुलझे जुड़े रहस्य। उत्तराखंड में घूमने वाले प्रमुख पर्यटन स्थल ऋषिकेश कि बजट ट्रिप कैसे प्लान करें हरिद्वार में फ्री धर्मशाला कैसे ढूढ़े