झरनो की नगरी वाला अद्भुत कुंचिकल जलप्रपात : Kunchikal falls travel guide

Kunchikal Falls

भारत एक ऐसा देश है जिसे नैसर्गिक सुंदरता अलौकिक वरदान प्राप्त हैं। भारत का कोई  भी शहर ले लीजिये, जहाँ से आपको एक भी पर्यटनस्थल  न मिले ऐसे हो ही नहीं सकता। अगर आज के इस लेख में हम आपको जलप्रपातों की भूमी के बारे में बताये तो अचरज़ न कीजियेगा। 

परीकथा और भारतीय फ्लिमों में हमने अक़्सर ही शानदार झरने देखे हैं। पर क्या आपने कभी वास्तिवकता में ऐसी जगह की खोज की हैं। अगर नहीं, तो आपका अगला गंतव्य स्थान होना चाहिए कर्नाटक का शिमोगा शहर। नैसर्गिक संपदा से संपन्न इस शहर को हम झरनो का शहर कह सकते हैं। भारत के सबसे सुंदर और प्रसिद्ध एक या दो नहीं बल्कि ग्यारह झरने आपको यहीं मिलेंगे। आज उसी में से कुंचिकल झरने (Kunchikal falls) की जानकारी हम विस्तृत में देंगे। 

कुंचिकल जलप्रपात कि ऊंचाई (Kunchikal falls Height)

Height of Kunchikal falls
Kunchikal falls complete travel guide in hindi

कर्नाटक में शिमोगा-उडुपी सीमा पर मास्थिकाटे-हुलिकल के पास स्थित कुंचिकल झरना वराही नदी द्वारा निर्मित है। पश्चिमी घाट की पहाड़ियों में उत्पन्न हुई इस नदी के इन चट्टानी शिलाखंडों पर 455 मीटर की ऊंचाई से गिरता हुआ झरना एक प्रभावशाली दृश्य प्रस्तुत करता है। कुंचिकल झरना दुनिया में ऊंचाई में 116वें स्थान पर है और भारत का सबसे ऊंचा झरना है।वराही नदी हुलिकल घाटी मंदिर के करीब इन चट्टानी संरचनाओं के ऊपर से अधिक ऊंचाई से झरने की तरह बहती है। 

कुंचिकल जलप्रपात इतना प्रसिद्ध क्यों है ?

क्योंकि इस क्षेत्र के चारों ओर फैली हरियाली सचमुच किसी को भी मंत्रमुग्ध कर देती है। वराही नदी का प्रक्षेप पथ देखने लायक एक प्रभावशाली दृश्य है। वराही नदी की सहायक नदियों द्वारा कई झरने बनेंगे, क्योंकि यह कुंचिकल झरने में गिरती है। मनमोहक दृश्य इतना अद्भुत है कि कोई भी इससे नजरें नहीं हटा पाता है। अन्य नदियों द्वारा निर्मित कई झरने वरही नदियों के साथ बहते हैं, जो इस स्थान की शोभा बढ़ाते हैं। झरने की मार्मिक विशेषता इसका गिरता स्तर और मंत्रमुग्ध हरी सुंदरता की सम्मोहक पृष्ठभूमि है।

How to reach kunchikal
Image source

कुंचिकल झरना (Kunchikal falls) कर्नाटक में जलविद्युत परियोजनाओं के प्राथमिक स्रोतों में से एक है। जलविद्युत उत्पादन के लिए शिमोगा जिले में वराही नदी पर मणि बांध के निर्माण हुआ। मस्तिकट्टे के पास मणि बांध और शिमोगा जिले में हुलिकल के पास भूमिगत बिजली उत्पादन स्टेशन के निर्माण के साथ ही कुंचिकल में पानी का बहाव धीमा हो गया है जिस वजह से झरने का जल प्रवाह बहुत प्रभावित हुआ है। झरने के कम पानी ने इसकी सुंदरता को कुछ हद तक छीन लिया है। केवल बरसात के मौसम (जुलाई-सितम्बर) के दौरान ही यह अपने पूरे यौवन में दिखाई देता है।

झरने के नीचे एक जलविद्युत संयंत्र बनाया गया है, जो उच्च शक्ति की बिजली उत्पन्न करता है। पानी मणि बांध के जलाशय में गिरता है, जिससे पानी का प्रवाह बहुत कम हो गया है। यह सुरम्य स्थान प्रकृति का आनंद लेने के लिए एक शानदार स्थान है। यह देश के कम खोजे गए झरनों में से एक है। मणि बांध की उपस्थिति के कारण, सुरक्षा कारणों से झरने के आसपास सार्वजनिक आवाजाही प्रतिबंधित है। ऐसे में झरने पर ज्यादा लोग नहीं आते।

कुंचिकल जलप्रपात (Kunchikal Waterfall) प्रतिबंधित क्षेत्र के भीतर है, इसलिए गेट पास या विशेष अनुमति लेकर ही यहां तक पहुंचा जा सकता है। यही कारण हैं कि देश का सबसे ऊंचा जलप्रपात होने के बावजूद यह सबसे कम पर्यटकों की आमद वाले प्रपातों में शामिल है। इसका सकारात्मक पक्ष यह है कि यह सुरम्य स्थान अनावश्यक मानवीय हस्तक्षेप से बचा हुआ है।

जलप्रपात एक प्रतिबंधित क्षेत्र में होने के कारण, जलप्रपात देखने के लिए गेट पास की आवश्यकता होती है और यह पास होसांगडी गांव में (लगभग 15 किलोमीटर दूर) जारी किया जाता है। जलप्रपात के आस-पास का क्षेत्र सुरक्षित ढंग से संरक्षित है ताकि क्षेत्र की शांति बनी रहे।

कुंचिकल झरने तक कैसे पहुँचें? (How to reach kunchikal falls)

 सड़क मार्ग द्वारा : कुंचिकल झरना शिमोगा में है जो बैंगलोर, मैसूर और मैंगलोर आदि जैसे प्रमुख शहरों से सड़क मार्ग द्वारा अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। बैंगलोर से कुंचिकल झरने के लिए कई निजी बसें चलती हैं। एक बार हुलिकल पहुंचने पर पर्यटक झरने तक टैक्सी या कोई अन्य निजी वाहन ले सकते हैं।

रेल द्वारा : उडुपी-शिमोगा सीमा पर स्थित, उडुपी रेलवे स्टेशन अगुम्बे से लगभग 67 किमी और शिमोगा से लगभग 97 किमी दूर है। शिमोगा या उडुपी से , झरने तक कोई भी टैक्सी या बस ले सकता है।

हवाईजहाज द्वारा :  मैंगलोर हवाई अड्डा कुंचिकल झरने से लगभग 142 किमी दूर है। मैंगलोर हवाई अड्डा प्रमुख शहरों से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। हवाई अड्डे से, झरने तक पहुँचने के लिए कोई टैक्सी सेवा, बस या ट्रेन भी ले सकता है।

कुंचिकल जाने का उचित समय कौन सा हैं?

 ऐसे तो शिमोगा  एक सभी मौसम का पर्यटन स्थल है इसलिए आप बारह माह यहाँ की यात्रा का नियोजन कर सकते हैं। जिसमें सुंदर जलप्रपात हैं और शिमोगा में जलप्रपातों को सबसे अच्छे रूप में देखने के लिए, खासकर के कुंचिकल जलप्रपात को देखने का सबसे अच्छा समय वर्षा ऋतु, यानी जुलाई से सितंबर तक है। जलप्रपात से बहने वाले भारी पानी का दृश्य वास्तव में देखने लायक है। यहाँ पर आप सुबह 7 बजे से शाम 5 बजे तक विजिट कर सकते हैं। 

कहाँ रहे और कहाँ खाये?

 कुंचिकल जलप्रपात, शिमोगा के पास, कई ऐसे स्थान हैं जहां व्यक्ति ठहर सकता है। उनकी कीमतें भी काफी उचित और किफ़ायती हैं। कुछ स्थानों के नाम हैं आद्वैथा बोर्डिंग और लॉजिंग, अंतर्वनम होमस्टे और फार्म रिजॉर्ट्स, बारेकल फार्मस्टे, अमृतवन नेचर रिजॉर्ट, अबिमोन रेजिडेंसी इंटरनेशनल आदि। इसके अलावा, खाने के लिए भी कई स्थान हैं। कुछ रेस्टोरेंटों के नाम हैं होटल श्री मूकम्बिका, होटल न्यू लक्ष्मी कप्पा, फ़ूड कोर्ट मोबाइल कैंटीन, होटल श्री सद्गुरु वेज रेस्टोरेंट, अमर फैमिली रेस्टोरेंट आदि।

Hotels in Shimoga: Popularity

HotelStarsDiscountPrice before and discountSelect dates
STAYMAKER Sri Mahalakshmi Lodge★★--View hotel
HONNASIRI RESIDENCY★★★--View hotel
Green View Clarks Inn, Shimoga★★★--View hotel
Akash Inn★★★--View hotel
Blue Crystal Lodge--View hotel

कुंचिकल जलप्रपात का अनुभव कैसे ले?

दर्शनीय स्थल और फोटोग्राफी: कुंचिकल जलप्रपात तक पहुंचते ही, इसकी सुंदरता में लीन हो जाइए। मनकुंचिकल जलप्रपात के प्राकृतिक सौंदर्य को अपनें, शानदार फोटोग्राफ खींचें और आस-पास की शांति का आनंद लें। 

ट्रेकिंग और हाइकिंग: साहसिक उत्साहितों के लिए, कुंचिकल जलप्रपात में ट्रेकिंग और हाइकिंग के लिए उत्कृष्ट अवसर प्रदान करता है। जलप्रपात के आस-पास के क्षेत्रों में रूमानी रास्ते हैं, जो घने जंगल और पहाड़ों से गुजरते हैं और एक रोमांचक अनुभव प्रदान करते हैं।

कर्नाटक के पर्यटन बोर्ड ने इसकी ऊंचाई को पूरी तरह से देखने के लिए इस झरने के विपरीत दिशा में एक व्यूपॉइंट बनाया है। इसके झरने, आधार और दृश्य को देखने के लिए आपको कई पत्थर से लदी सीढ़ियाँ चढ़नी होंगी। इस झरने को पूरी ऊर्ध्वाधर लंबाई में अपने कैमरे में कैद करने के लिए यह सबसे अच्छी जगह है। मानसून की बारिश के दौरान इसके झरने में तैरना और इसके नीचे स्नान करना वर्जित है। दिसंबर से मई के बीच जब पानी का प्रवाह कम हो जाता है तो इसे प्रतिबंधित नहीं किया जाता है।

लोकल फूड (Local Food): कुंचिकल जलप्रपात के पास स्थानीय खाद्य का स्वाद लेने का अवसर न छोड़ें। मूल्यांकन के लिए असली स्थानीय व्यंजन का आनंद लें, जिनकी अद्वितीय स्वाद और मसालों के लिए मशहूर हैं। जलप्रपात के पास छोटे खाने की दुकानें और रेस्टोरेंट हैं, जहां आप प्रकृति के बीच भोजन का आनंद ले सकते हैं। आप वहां के आस-पास स्थलों को भी विजिट कर सकते हैं जैसे की अगुम्बे हिल स्टेशन, जोगी गुंडी झरना, निभानी गुड्डा और भी शिमोगा की पर्यटन स्थल देख सकते हैं। 

यात्रा के दौरान इन बातों का रखे विशेष रूप से ध्यान

आरामदायक कपड़े पहनें: ट्रेकिंग या चलने के लिए उपयुक्त आरामदायक कपड़े और जूते चुनें। जलप्रपात के आस-पास का भूमि अनियमित हो सकता है, इसलिए तैयार रहना महत्वपूर्ण है।

पर्याप्त पानी पिएँ: यात्रा के दौरान हाइकिंग या ट्रेकिंग जैसी शारीरिक गतिविधियों में रहते हुएक कार्यक्रम के तहत हाइड्रेटेड रहने के लिए पर्याप्त मात्रा में पानी ले जाएं।

सुरक्षा निर्देशों का पालन करें: जलप्रपात के आसपास दिखाई देने वाले किसी भी सुरक्षा निर्देशों या चेतावनी संकेतों पर ध्यान दें। अपने स्वास्थ्य और सुरक्षा की गारंटी के लिए दिए गए दिशानिर्देशों का पालन करें।

2 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

श्रीलंका में घूमने वाले प्रमुख पर्यटन स्थल। भूटान में घूमने वाले प्रमुख पर्यटन स्थल | भूटान से 10 जुड़े रोचक तथ्य (Interesting facts About Bhutan) 10 ट्रेवल कंटेंट क्रिएटर जो महीनों का लाखों कमाते है। कैंची धाम – नीम करोली बाबा से अनसुलझे जुड़े रहस्य।